kahani pyaar ki,romantic pyar ki kahani 2022

Spread the love
87 / 100

kahani pyaar ki,romantic pyar ki kahani इससे पहले कि हम और आगे बढ़ें,
मैं आपको बता दूं कि आप मुझसे बहुत ज्यादा उम्मीद नहीं करते हैं। attitude quotes

हमारी शादी नाम से ही होगी।
दुनिया के सामने हम पति-पत्नी होंगे लेकिन आपको मुझसे पति के अधिकार मिलने की कोई उम्मीद नहीं रहेगी।kahani pyaar ki

breakup sad story in hindi

रेशमा ने दरवाजे के पास एक कार रुकने की आवाज सुनी लेकिन
खिड़की के पास आने की जहमत नहीं उठाई कि कौन आया है।
रोज की तरह कोई मिलने आया होगा। इन मेहमानों की आमद कब रुकेगी?
पियरे को आए आज एक हफ्ता बीत चुका है लेकिन घर में मेहमानों की संख्या कम नहीं हुई है।
अब वह हर दिन सबके सामने हंसी का मुखौटा पहन कर थक चुकी थी।
रेशमा के दिल में चल रहे मंथन को रेशमा के माता-पिता भी नहीं समझ पाए।

kahani pyaar ki 2022

रेशमा की शादी को एक साल हो चुका है
और उसका मानना ​​है कि रेशमा ने मनीष जैसे सुंदर,
अमीर और सुशील युवक से खुशी-खुशी शादी की है।
रेशमा को देखकर रेशमा के माता-पिता खुश हो गए,
उनका मानना ​​था कि दस अंगुलियों से गोरांडे की पूजा करने वाले को ही ऐसा पति मिल सकता है
और हमारी रेशमा भाग्यशाली है कि उसे ऐसा पति मिला।
जैसा कि रेशमा के माता-पिता ने कहा था,kahani pyaar ki
रेशमा को खुश देखने के लिए उसके घर के आसपास की सभी महिलाएं किसी न किसी बहाने से आती थीं
और रेशमा उन सबके सामने नकली मुस्कान डाल कर थक जाती थी। killer attitude quotes in Hindi

इसलिए उसने फिर से अपनी आँखें बंद कर लीं और अपने विचारों में खो गई।
कौन जाने क्यों आंखे बंद करते ही मनीष की छवि उनकी आंखों के सामने आ जाती है।
व्याकुल रेशमा बिस्तर से उठी और अपने घर के पीछे बगीचे में एक बेंच पर बैठ गई,
उसके सामने गरजते हुए समुद्र को घूर रही थी। समुद्र और उसकी लहरें उसके बचपन के साथी थे।

kahani pyaar ki,romantic pyar ki kahani

उसके दुख उसकी खुशियों का हिस्सा थे, और जब वह अपनी शादी के बाद गोवा से बैंगलोर चली गई,
तो शुरू में उसके साथियों ने उसके साथ दुर्व्यवहार किया। लेकिन धीरे-धीरे उसे इसकी आदत हो गई।
फिर भी, कभी-कभी जब उसका मन उदास होता, पियरे को याद करके या जब मनीष के व्यवहार के कारण उसका मन उदास होता,
तो वह इन दोस्तों को अपनी आँखों के सामने लाकर मानसिक रूप से उनके लिए अपना दिल नरम कर लेती।kahani pyaar ki

अब भी उसे अपना दिल हल्का करना था। आज उन्हें मनीष से अपनी पहली मुलाकात याद आ रही थी।
मनीष के मामा रेशमा के पिता के मित्र थे।
मनीष के मामा ने रेशमा का नाम सुझाया जब वे मनीष से शादी करने के लिए एक उपयुक्त दुल्हन की तलाश कर रहे थे।kahani pyaar ki
रेशमा के पिता से बात कर उन्होंने ‘गर्ल वाचिंग’ प्रोग्राम बनाया। रेशमा को वह दिन आज भी याद है।

उस दिन दशहरा पर्व था। रेशमा ने पिस्ता रंग की साड़ी पहनी थी। रेशमा की वैन सफेद नहीं थी।
लेकिन वह विनम्र थी। यह साड़ी उनके गेहुंए रंग पर बहुत चमकीली थी। रेशमा में कोई आकर्षक सुंदरता नहीं थी।
लेकिन उनका व्यक्तित्व आकर्षक था। रेशमा को खाना बनाने और घर की साज-सज्जा का शौक था।
उसने कंप्यूटर भी सीखा। लेकिन करियर बनाने में उनकी कोई दिलचस्पी नहीं थी।
उसे केवल घर बचाने में दिलचस्पी थी और मनीष भी पैसे से खुश था। चूंकि घर में कोई बड़ा नहीं था,
इसलिए वह एक गृहिणी पत्नी भी चाहता था।kahani pyaar ki

romantic pyar ki kahani

शिनाख्त समारोह और चाय पीने के बाद मनीष ने रेशमा से अकेले में बात करने की इच्छा जताई।
रेशमा और मनीष के अकेले होने के बाद मनीष कुछ पल चुप रहा। रेशमा ने अपने चेहरे पर खेल रहे भावों को देखा।kahani pyaar ki
इस सुन्दर युवक के लिए उसके मन में प्रेम उमड़ पड़ा।
मनोमन ने इस युवक को अपना दिल दे दिया। अचानक मनीष ने ऊपर देखा।
अपनी शिक्षिका की ओर देखते ही रेशमा के चेहरे पर मुस्कान आ गई।
रेशमा की सादगी और मासूमियत ने उन्हें छू लिया।

उसे याद आया कि माँ ने क्या कहा था। ‘जो बेट्टा,kahani pyaar ki
रेशमा विशेष रूप से सुंदर नहीं है लेकिन वह एक सभ्य और संस्कारी लड़की है।
ध्यान रहे कि मैं तुमसे यह नहीं कह रहा कि तुम्हें रेशमा से शादी करनी है।
लेकिन एक चीज को खोने के लिए तत्परता से निर्णय लेना बेहतर है।’
लेकिन अब रेशमा को देखकर उसे लगा कि उसके चाचा की बात गलत है।
रेशमा के गालों पर शर्म की लकीरों ने उसके चेहरे को और भी खूबसूरत बना दिया। ‘माँ झूठ बोल रही थी।
यह लड़की सुंदर है। उसकी खूबसूरत बड़ी आंखों को काजल की जरूरत नहीं है।
उसकी गोरी त्वचा, चिकने काले बाल और बिना लिपस्टिक के लाल होंठ देखकर मनीष का दिल धड़कने लगा।
मनीष ने आज सीखा कि सादगी में भी सुंदरता होती है।

सच्चे प्यार की कहानी हिंदी मेंkahani pyaar ki

मनीष ने अचानक पलट कर देखा।
आज खुद को क्या हुआ? दो साल का फैसला आज अचानक हवा में पिघलने की तैयारी क्यों कर रहा है?
पता चला कि उसके चाचा गलत थे।
यह लड़की सुंदर है। लेकिन यह उसे परेशान क्यों करता है? लेकिन इस लड़की में कुछ ऐसा है जो उसे अपनी ओर खींच रहा है।
उनकी उपस्थिति मन को ताजगी देती है।kahani pyaar ki
कमरे में प्रवेश करते ही रेशमा के व्यक्तित्व में गर्माहट महसूस हुई और उसने तुरंत अपना मन बना लिया।

उलझन में, वह शुरू हुआ, ‘रेशमा, मुझे पता है कि तुम पर मुझसे शादी करने का बहुत दबाव है।
लेकिन मैं आपको किसी भी तरह से मजबूर नहीं करना चाहता।
इससे पहले कि आप अपना फैसला करें,kahani pyaar ki
मैं आपको एक या दो बातें बताना चाहता हूं।’ यह कह कर वह घबरा गया।
अपनी घबराहट को छिपाने के लिए वह उठ खड़ा हुआ और रेशमा की ओर आगे आया।
पास की मेज पर पड़े एक कागज़ के बाट को उठाते हुए वह बोला और उसके साथ खेला।
‘आज मैं यहां क्यों हूं, इसका एक महत्वपूर्ण कारण है।kahani pyaar ki

कहानी हिंदी मेंkahani pyaar ki

मुझे एक लड़की से प्यार हो गया था। लेकिन उसने मुझे धोखा दिया और कहीं और शादी कर ली।
मैंने शादी में रुचि खो दी है।
मेरे पिता को यह पता था इसलिए उन्होंने अपनी वसीयत में मेरी शादी करने का प्रावधान किया।
उसने अपनी वसीयत में घोषणा की है कि अगर 30 साल तक मेरी शादी नहीं हुई तो हम अपना सारा कारोबार और संपत्ति ट्रस्ट में दे देंगे।
मैंने बड़ी लगन से उनके व्यवसाय को विकसित किया है।
मैं नहीं चाहता कि यह धंधा मेरे हाथ से छूट जाए।
इसलिए मैं शादी के लिए तैयार हूं।’kahani pyaar ki

सच्चे प्यार की कहानी हिंदी में 2022

एक सांस में यह कहकर वह फिर सोफे पर बैठ गया।
उसके बाद कुछ पोरो खाने के बाद उसने अपनी कहानी जारी रखी,
‘मेरे चाचा ने तुमसे बात की। इसलिए मैं आपसे मिलने आया हूं।
इससे पहले कि हम आगे बढ़ें, मैं आपको बता दूं कि आप मुझसे बहुत ज्यादा उम्मीद नहीं करते हैं।
हमारी शादी नाम से ही होगी।kahani pyaar ki
दुनिया के सामने हम पति-पत्नी होंगे लेकिन आपको मुझसे पति के अधिकार मिलने की कोई उम्मीद नहीं रहेगी।
मनीष की बातें सुनकर रेशमा चौंक गई।
वह मनीष के मुंह को बाघा की तरह देखने लगी। होश में आते ही उसने मनीष से दो दिन सोचने को कहा।

उठते ही मनीष ने रेशमा से कहा, “मैं तुम पर कुछ भी जबरदस्ती नहीं करना चाहता।
आप शांति से सोचें और मुझे जवाब दें।
मुझे आपके उत्तर की कोई जल्दी नहीं है
और यदि आप मना करते हैं तो मुझे बुरा नहीं लगेगा और इससे आपके पापा और मामा के रिश्ते पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।kahani pyaar ki
जाने से पहले मैं आपको एक बात और बता दूं। मुझे अब प्रेम-समान आकर्षण में कोई दिलचस्पी नहीं है।
महिलाओं के लिए कोई सम्मान नहीं है। नारी जाति से मेरा विश्वास पूरी तरह से उठ गया है।’

मनीष की एक-एक बात रेशमा के दिल पर छा गई। उसके सपनों का महल ताश के पत्तों की तरह ढह रहा था।kahani pyaar ki
लेकिन रेशमा ने अपना मन नहीं लगाया। उसने मुस्कुराते हुए मनीष और उसके चाचा को विदाई दी।

प्यार की कहानी हिंदी

उस रात वह सो नहीं पाई। मनीष का चेहरा उसकी आंखों के सामने तैरने लगा।
उन्होंने सपने में भी नहीं सोचा था कि उनके जीवन में फिल्मी कहानी जैसी स्थिति आ जाएगी।
कोई ऐसे कैसे जी सकता है? क्या होगा अगर मनीष भविष्य में अपना विचार नहीं बदलता है?
क्या वह उम्र के साथ आने वाली वासना की बाढ़ से बच पाएगा? फिल्मों की तरह, उनकी कहानी का सुखद अंत नहीं हो सकता है।kahani pyaar ki
लेकिन दूसरी तरफ मनीष के लिए पहली नजर के प्यार ने उन्हें कुर्बानी दे दी।

2022 सच्चे प्यार की कहानी हिंदी में

प्रेम समर्पण और बलिदान मांगता है। एक सच्चे प्रेमी को उम्मीद की कोई उम्मीद नहीं होती।
उन्हें पता ही नहीं चला कि इन सब विचारों और विचारों पर कब सुबह हो गई।
इसे सेंटीमेंटल कहें तो इमोशनल है और रोमांटिक कहें तो रोमांटिक है लेकिन उसने आज रात अपने जीवन का एक अहम फैसला लिया था
और इस फैसले को लेने के बाद उसे एक तरह की अकथनीय संतुष्टि मिली।
सुबह उसने मनीष को फोन किया और बताया कि उसने इस रिश्ते को स्वीकार कर लिया है।
विपरीत छोर पर मौन का क्षण था। तभी मनीष की आवाज आई। ‘रेशमा, क्या आपने सोच-समझकर यह फैसला लिया है?kahani pyaar ki
मुझे अभी कोई जल्दी नहीं है। एक या दो दिन सोचें और उत्तर दें। मैं तुम्हारा हाल हूँ…’

रेशमा ने मनीष को टोकते हुए कहा। ‘मैंने पूरी रात सोचा है।’kahani pyaar ki
मनीष को इस बात का अंदाजा नहीं था कि रेशमा को उससे पहली नजर में प्यार हो गया था।
उसने यह मान लिया कि रेशमा उसके वैभव से मोहित हो गया होगा या कि उसे अपने माता-पिता के साथ संबंध नकारने का कोई वैध बहाना नहीं मिला है।
खैर जो भी हो। उन्होंने अपनी तरफ से सब कुछ स्पष्ट कर दिया था।
सब कुछ जानने के बाद रेशमा उसे वैवाहिक सुख के अलावा कुछ भी खोने नहीं देगी।

प्यार मोहब्बत कहानी हिंदी में

कुछ ही देर में रेशमा वजतेगजत ने मनीष से शादी कर ली और गोवा से बेंगलुरु पहुंच गई।
घर में घुसते ही उसने मनीष के घर को अपना घर बना लिया।
पत्नी के आने से मनीष को भी घर हरा-भरा लगने लगा। रेशमा अपने पति के प्रति आसक्त थी।

उसकी छोटी बच्ची ने सब कुछ संभाल लिया।
फिर भी मनीष ने उसे शॉपिंग के लिए जाने को कहा तो वह यह कहकर शॉपिंग करने से परहेज करेगी कि शादी के वक्त खरीदी गई चीजें भी जस की तस रह गई,
तो नई-नई चीजों का क्या करें? उसकी वाणी और व्यवहार में कहीं भी पति के धन का लोभ नहीं था।
उन्होंने मनीष से परोक्ष रूप से भी दाम्पत्य सुख नहीं मांगा। लेकिन,
कभी-कभी किसी रोमांटिक कपल को टीवी सीरियल में देखकर उनके चेहरे पर उदासी की हल्की-सी छाया लौट आती थी।kahani pyaar ki

2022 प्यार की कहानी हिंदी में

रेशमा की सादगी और सिद्धांत से मनीष प्रभावित हुए।
उसका पत्थर दिल धीरे-धीरे पिघल रहा था। लेकिन स्त्री लिंग से बंधी ग्रंथि मुक्त नहीं हुई।
हालाँकि, रेशमा के कोमल दुलार ने आखिरकार उसके मन की गाँठ को ढीला कर दिया।
मनीष का मन धीरे-धीरे रेशमा की ओर आकर्षित होने लगा।
और बुखार से पीड़ित मनीष की रेशमा को बिना देखे दिन-रात सेवा करते देख मनीष उस पर गिर पड़ा।

पति-पत्नी प्यार में थे। रेशमा का चेहरा शर्म और संतोष से लाल हो गया।
होमवर्क के दौरान वह मधुर आवाज में रोमांटिक गाने गुनगुनाती थीं।
उसके चेहरे को खुशी से चमकते देख मनीष के होठों पर मुस्कान लौट आई।
लेकिन शायद उनकी हथेलियों पर दाम्पत्य सुख की रेखा नहीं थी।

एक दिन अचानक सफेद साड़ी में एक खूबसूरत लड़की ने दरवाजे की घंटी बजी।
रेशमा ने दरवाजा खोला और प्रश्नवाचक दृष्टि से उसकी ओर देखा। लड़की झिझक कर बोली, ‘हां…
मैं हूं रिद्धि। मनीष है?’ मनीष रिद्धि की आवाज को कैसे भूल सकता है?
वह दरवाजे पर आया और तुरंत रिद्धि से पूछा ‘तुम अभी यहाँ क्यों आ रहे हो?’
लेकिन फिर उसकी सफेद साड़ी, हाथ जोड़कर और सू का माथा देखकर वह चौंक गया।
रेशमा को तुरंत पता चलता है कि यह मनीष की पूर्व प्रेमिका है। घर के दरवाजे पर आने वाले व्यक्ति को ठुकराने का रेशमी संस्कार नहीं था।kahani pyaar ki
उसने जोर-जोर से रिद्धि को घर बुलाया। तीनों बैठक कक्ष में बैठे थे।

कुछ पल के असमंजस के बाद मनीष ने धीमी आवाज में पूछा, ‘रिद्धि, तुम्हारा पति…?’ ‘यह अब इस दुनिया में नहीं है।
जब हमारी शादी हुई, तब भी मुझे पता था कि मैं जल्द ही विधवा हो जाऊंगी।
लेकिन मेरे ससुर ने मेरे पिता द्वारा मेरे ससुर से लिए गए कर्ज के खिलाफ अपने बीमार बेटे के लिए शादी में मेरा हाथ मांगा।
असल में उसकी नजर मेरी जवानी पर थी। बेटे की मौत के बाद उसने मुझसे कहा…’ इतना कहते ही रिद्धि रोने लगी.kahani pyaar ki

प्यार मोहब्बत की कहानी हिंदी में

रेशमा ने उस पर हाथ रखा और उसे शांत किया।
रिद्धिना के जाने के बाद मनीष-रेशमा पूरी रात सो नहीं पाए।
सुबह रेशमा ने मनीष से कहा कि ‘मैं शादी के बाद एक बार भी गोवा नहीं गई,
तो कुछ दिनों के लिए क्यों नहीं आती?’ मनीष उन्हें मना नहीं कर सका।
उसी दिन रेशमा बैंगलोर से गोवा के लिए निकली।

आज गोवा आए एक हफ्ता बीत गया। इतने दिनों से उनके दिमाग में एक ही ख्याल चल रहा था कि
‘मैं मनीष के जीवन से हटकर रिद्धि को उनकी जगह दे दूं।
जो हुआ उसमें उसका कोई दोष नहीं था।
उसने परिस्थितियों के सामने आत्मसमर्पण कर दिया।
वह अपने पिता का कर्ज चुकाने के लिए मनीष से पैसे नहीं लेने के लिए आत्मनिर्भर थी।
और अब उसके ससुर उसके खिलाफ नियति को बर्बाद कर रहे हैं।
बेहतर होगा कि मैं बैंगलोर वापस न जाऊं और मनीष-रिद्धि फिर से मिल जाएं।
रिद्धि की सच्चाई जानने के बाद मनीष को भी अपनी सोच पर पछतावा हुआ।
एक रात में वह मनीष के मूड में आ गई।kahani pyaar ki

2022 प्यार मोहब्बत की कहानी हिंदी मेंkahani pyaar ki

अंत में उसने फैसला किया कि वह कभी भी बैंगलोर वापस नहीं जाएगा।
उसने मजबूती से मोबाइल ले लिया। उसने मनीष को भेजने के लिए एक एसएमएस टाइप किया।
‘आपके पहले प्यार पर बधाई। रिद्धि को अपनाएं। मुझे मेरा साथी भी वापस मिल गया।
गोवा का समुद्र हमेशा मस्ती में उछलता-कूदता रहता है और उसकी लहरें मुझे नहलाने आती हैं।’

एसएमएस टाइप होने के बाद उनका अंगूठा ‘सेंड’ की तरफ नहीं बढ़ रहा था। यही एक मैसेज उनकी
और मनीष की शादीशुदा जिंदगी को हमेशा के लिए खत्म करने के लिए काफी था।
उसने एक बार फिर संदेश पर नज़र डाली। तब मनोमन ने कहा, ‘मैंने ‘निर्णय’ किया है न कि ‘निर्णय’।
वह ‘सेंड’ बटन पर अपना अंगूठा दबाने ही वाली थी कि पीछे से किसी ने उसका हाथ उसकी आंखों पर दबा दिया।kahani pyaar ki

पति ‘मनीष’ को छूकर रेशमा का दिल धड़क उठा। मनीष ने उसकी नाक से हाथ हटाया और बाद में नहाया,
‘कितने दिन और यहाँ रहना है? तुम्हारे बिना घर और मैं दोनों की नींद उड़ी हुई है।’

मनीष की बातें सुनकर दंग रह गई रेशमा को अब एहसास हुआ कि वह जिस कार को नहीं देखना चाहती थी वह किसी
और की नहीं बल्कि उसके प्यारे पति मनीष की थी। उसकी आंखों से खुशी के आंसू छलक पड़े।

1 thought on “kahani pyaar ki,romantic pyar ki kahani 2022”

Leave a Comment